For the first time in the world, Indian Railways is going to achieve this feat in 2030

By | August 28, 2020
Green Railways Indian Railway

Indian Railways aims to reduce carbon emissions to zero in the next decade. Railway Minister Piyush Goyal tweeted this on Wednesday evening.

“By 2030, we will have net-zero railways,” the railway minister tweeted. The carbon emissions of Indian Railways will be zero, “he wrote.” Indian Railways carries 600 crore passengers and 120 crore tons of goods every year. The first railway of this size in the world will be completely ‘green’.

भारतीय रेलवे का लक्ष्य अगले दशक में कार्बन उत्सर्जन को शून्य करना है। रेल मंत्री पीयूष गोयल ने बुधवार शाम को यह ट्वीट किया।

रेल मंत्री ने ट्वीट किया, “2030 तक, हमारे पास शुद्ध-शून्य रेलवे होगा।” भारतीय रेलवे का कार्बन उत्सर्जन शून्य होगा, “उन्होंने लिखा था।” भारतीय रेलवे 600 करोड़ यात्रियों और सामान के 120 करोड़ टन हर साल किया जाता है। दुनिया में इस आकार के पहले रेलवे पूरी तरह से ‘हरित’ हो जाएगा।

Net ZERO Carbon Emission by Indian Railways

Indian Railways is the fourth largest in the world. India is after America, Russia and China. Net ZERO Carbon Emission by Indian Railways is the motto to Go Green. There are 6,300 stations on the 6,036 km long railway line in India. According to the Policy Commission, Indian Railways emitted 840,000 tons of carbon in 2014. Rail wants to reduce these carbon emissions.

भारतीय रेलवे दुनिया में चौथा सबसे बड़ा है। भारत अमेरिका, रूस और चीन के बाद है। भारत में 6,036 किलोमीटर लंबी रेलवे लाइन पर 6,300 स्टेशन हैं। नीति आयोग के अनुसार, भारतीय रेलवे ने 2014 में 840,000 टन कार्बन उत्सर्जित किया था। रेल इन कार्बन उत्सर्जन को कम करना चाहता है।

To reduce carbon emissions, the railways will have to reduce the use of diesel engines and move to a fully electric system. In this regard, Railway Minister Piyush Goyal said, “By December 2023, Indian Railways will be 100 per cent electric. For the first time in the history of the world, such a large-scale rail service will be entirely electric-based. The railway minister explained that he was walking on that path to Net ZERO Carbon Emission.

A senior official of the Railway Board said that the average speed of the train will increase by 10 to 15 percent if the electronic system is introduced. The use of solar panels in the Indian Railways network will accelerate Railway Minister Piyush Goyal’s mission to achieve the conversion of the national transporter to ‘Net Zero’ Carbon Emission Mass Transportation Network. The present demand for Indian Railways would be fulfilled by the solar power projects that are being deployed, making it the first transport organization to be energy self-sufficient. The move would help in making the national transporter green as well as ‘Atma Nirbhar’.

 
रेलवे बोर्ड के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि यदि इलेक्ट्रॉनिक प्रणाली शुरू की जाती है तो ट्रेन की औसत गति 10 से 15 प्रतिशत बढ़ जाएगी। रेलवे बोर्ड के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि यदि इलेक्ट्रॉनिक प्रणाली शुरू की जाती है तो ट्रेन की औसत गति 10 से 15 प्रतिशत बढ़ जाएगी। भारतीय रेल नेटवर्क में सौर पैनलों के उपयोग से रेल मंत्री पीयूष गोयल के मिशन को गति मिलेगी, ताकि राष्ट्रीय ट्रांसपोर्टर को trans नेट जीरो ’कार्बन उत्सर्जन जन परिवहन नेटवर्क में परिवर्तित किया जा सके। भारतीय रेलवे की वर्तमान मांग को सौर ऊर्जा परियोजनाओं द्वारा पूरा किया जाएगा जो कि तैनात की जा रही हैं, जिससे यह पहला परिवहन संगठन होगा जो ऊर्जा आत्मनिर्भर होगा। इस कदम से राष्ट्रीय ट्रांसपोर्टर को हरा-भरा बनाने के साथ-साथ ‘आत्म निर्भर’ बनाने में मदद मिलेगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

CommentLuv badge